आदर्श विद्युत तंत्र के लिए समग्र एवं साझा प्रयासों की जरूरत- भाटी

आदर्श विद्युत तंत्र के लिए समग्र एवं साझा प्रयासों की जरूरत- भाटी

अजमेर विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक श्री वी. एस. भाटी ने विद्युत तंत्र को मजबूत बनाते हुए गुणवत्तापूर्ण एवं सुदृढ़ीकृत विद्युत व्यवस्था सुनिश्चित करते हुए आमजन में बेहतरीन विश्वास कायम करने के निर्देश दिए।
प्रबंध निदेशक शनिवार को डिस्कॉम मुख्यालय सभागार में आयोजित वरिष्ठ अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में डिस्कॉम मुख्यालय के सभी आला अधिकारियों सहित सभी 12 वृत्तों के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे। श्री भाटी ने कहा कि राजस्थान सरकार लोक सुविधाओं को बेहतरीन एवं गुणवत्तापूर्ण ढंग से आमजन को उपलब्ध कराने के लिए संकल्पद्धता एवं संवेदनशील होकर कार्य कर रही है। ऎसे में सभी वृत्त विशेष मुस्तैदी से अपने दायित्वों को पूर्ण जवाबदेही से सार्थक अन्जाम दें।
फीडरों का भार कम किया जाएं –
उन्होंने बिजली ट्रिपिंग की समस्या को दूर करने की दिशा में विद्युत फीडरों के भार का विभाजन करने पर जोर दिया। उन्होंने विभिन्न जिलों से आने वाली लोक शिकायतों को दूर करने की दिशा में सभी फीडरों की गतिविधियों का निरीक्षण एवं विद्युत वितरण व्यवस्था की सतत मॉनिटरिंग के निर्देश दिए। उन्होंने प्रत्येक वृत्त में प्रति सप्ताह 15 फीसदी फीडरों के कार्य की साप्ताहिक समीक्षा करने की बात कही।
कार्यों में गुणवत्ता बरतें-
प्रबंध निदेशक श्री भाटी ने डिस्कॉम की ओर से कराएं जाने वाले कार्यों की गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जहां गुणवत्ता में कमी आए वहां कार्य के 18 माह तक की अवधि तक की गुणवत्ता के मापदण्ड पूरा करने के लिए संबंधित ठेकेदार को पाबंद किया जाए।
विद्युत आपूर्ति निर्धारित अवधि से कम न हो-
श्री भाटी ने कहा कि विद्युत आपूर्ति न्यूनतम अवधि से कम किसी भी हाल में न होने पाए। उन्होंने थ्री फेज बिजली 6 घंटे तथा िंसंगल फेज बिजली की आपूर्ति 24 घंटे सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने आगामी रबी फसल के लिए सिंचाई हेतु पर्याप्त बिजली किसानों तक पहुंचाने के मद्देनजर समय रहते पूर्व उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
दुर्घटना न्यूनीकरण के प्रभावी प्रयास हो-
श्री भाटी ने कहा कि विद्युत क्षेत्र में होने वाली घातक एवं अघातक दुर्घटनाओं के न्यूनीकरण के लिए दुर्घटना के कारकों पर विशेष ध्यान देते हुए विद्युत तंत्र को सुरक्षित बनाने के लिए कारगर कदम उठाए जाएं।
ट्रांसफार्मर तत्काल दुरूस्त हों-
प्रबंध निदेशक ने विद्युत आपूर्ति को बेहतर बनाने की दिशा में ट्रांसफार्मर जलने की समस्या को नियंत्रित करने पर जोर दिया। साथ ही ट्रांसफार्मर जलने की दशा में यथाशीघ्र विद्युत आपूर्ति बहाल करने के लिए तत्काल ट्रांसफार्मर बदलने पर भी जोर दिया गया। उन्होंने ट्रांसफार्मर सुरक्षा मानकों को भी शत-प्रतिशत अपनाने के निर्देश दिए।
विद्युत छीजत हर हाल में कम करने के प्रयास करें-
श्री भाटी ने डिस्कॉम के विभिन्न वृत्तों में विद्युत छीजत की स्थिति का आंकलन करते हुए अधिक छीजत वाले क्षेत्रों में विद्युत छीजत कम करने के लिए सशक्त कदम उठाने पर जोर दिया।  उन्होंने विभिन्न स्तर पर निगरानी बढ़ाने तथा विद्युत चोरी के दोषियों के विरूद्ध प्रकरण दर्ज कराने के निर्देश दिए। उन्होंने परस्पर उपखण्ड पर सतर्कता जांच करने के निर्देश दिए। बैठक में सर्वाधिक छीजत वाले क्षेत्र नागौर, सीकर, झुंझुनूं व बांसवाड़ा के अधिकारियों से छीजत कम करने के लिए ठोस रणनीति अमल में लाए जाने की बात कही।
बैठक में इन विषयों पर हुइ चर्चा-
बैठक में प्रबंध निदेशक ने वरिष्ठ अधिकारियों से टी एण्ड डी लोसेज, एटी एण्ड सी लोसेज, कृषि कनेक्शन, घरेलू कनेक्शन, स्ट्रीट लाईट एवं पीएचईडी कनेक्शन, औसत बिलिंग, बंद एवं खराब मीटर, राजस्व वसूली, सतर्कता जांच समीक्षा, कन्ज्यूमर टैगिंग, एनर्जी ऑडिट, कुसुम योजना, प्राप्त शिकायतों के निस्तारण एवं दर्ज प्रकरणों की स्थिति सहित अनेक महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी ली।
चार अधिकारी एवं कर्मचारी सम्मानित
निगम में बेहतर कार्य करने एवं विद्युत छीजत में कमी लाने, राजस्व में बढ़ोतरी, विद्युत चोरी में कमी लाने एवं अच्छे परिणाम के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में चार अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सम्मानित किया गया। उत्कृष्ठ कार्य करने वालों में श्री  एस. पी. नागर सहायक अभियंता बिजौलिया(भीलवाड़ा), श्री अनुभव सिंह कनिष्ठ अभियंता (सीएसडी-प्रथम) सीकर, श्री विनीत जैन सहायक राजस्व अधिकारी मदार (अजमेर) एवं श्री नीरज राठी फीडर इंचार्ज मदार (अजमेर) शामिल थे। इस अवसर पर सम्मानित प्रतिभागियों ने अपनी सफल कार्यप्रणाली पर भी विचार रखें। श्री भाटी ने कहा कि आगामी बैठक में जिस वृत्त में उक्त कार्यों के परिणाम बेहतर आएंगे उस वृत्त को सम्मानित किया जाएगा।
इस मौके पर निदेशक (वित्त) श्री एस. एम. माथुर, निदेशक (तकनीकी) श्री एम. बी. पालीवाल, संभागीय मुख्य अभियंता श्री एन.एस. निर्वाण (अजमेर जोन), श्री एन एस सहवाल(उदयपुर जोन), श्री डी एन जांगिड़ (झुंझुनूं जोन), अति. मुख्य अभियंता श्री के. एस. सिसोदिया (प्रोजेक्ट), अति. पुलिस अधीक्षक(सतर्कता) श्री मुकेश सांखला, मुख्य लेखा नियंत्रक श्री एम. के. गोयल, मुख्य लेखाधिकारी श्री एम. के. जैन, श्री बी. एल. शर्मा, श्री आर बी अग्रवाल, टी ए टू एमडी श्री मुकेश बाल्दी सहित अन्य तीनों संभाग के वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।
Admin

Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.