राज्यपाल श्री लालजी टंडन का प्रदेश में पहला स्वतंत्रता दिवस

राज्यपाल श्री लालजी टंडन का प्रदेश में पहला स्वतंत्रता दिवस

राज्यपाल श्री लालजी टंडन अपना पहला स्वतंत्रता दिवस राजभवन, भोपाल में मना रहे हैं।राज्यपाल सुबह 8 बजे राजभवन में ध्वजारोहण करेंगे। राजभवन द्वारा इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस के दौरान 13 से 16 अगस्त तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। सभी कार्यक्रम राज्यपाल श्री टंडन के सानिध्य में राजभवन में सम्पन्न होंगे। इसमें बच्चों के सांस्कृतिक कार्यक्रम, बैंड प्रस्तुतियाँ और कवि सम्मेलन होगा। इस दिन का खास सुयोग यह भी है कि राज्यपाल श्री टंडन का प्रदेश में पहला स्वतंत्रता दिवस होने के साथ-साथ रक्षाबंधन पर्व भी इसी दिन है।

आमजन के लिए खुला रहेगा राजभवन

राजभवन 13 से 16 अगस्त तक शाम 5 बजे से रात 10 बजे तक आमजन के लिये खुला रहेगा। केवल 15 अगस्त को राजभवन में शाम 8 बजे से प्रवेश मिलेगा। इस दौराननागरिक राजभवन की भव्य विद्युत सज्जा औरस्वतंत्रता संघर्ष पर आधारित प्रदर्शनी देखसकेंगे। राजभवन आने वालों को 13 अगस्त की शाम 7 बजे से राजभवन में रहने वाले परिवारों के बच्चे, कुम्हारपुरा स्थित राजभवन स्कूल के बच्चे, एवं शासकीय कमला नेहरू स्कूल के बच्चों की सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ देखने को मिलेंगी।राजभवन में गांधी जी की 150वीं जयंती पर केन्द्रित विशेष नाट्य प्रस्तुतिभी होगी।

कवि सम्मेलन

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्याबुधवार 14 अगस्त को राजभवन में शाम 6 बजे से पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृतियों को समर्पित कवि सम्मेलन होगा। कवि सम्मेलन में कुमार विश्वास के साथ वसीम बरेलवी, अतुल कनक, वेद प्रकाश, अंकिता सिंह और रमेश कुमार रचना पाठ करेंगे।

कवियों का संक्षिप्त परिचय

डॉ वसीम बरेलवी चिंतन, सामाजिक सरोकार और धार्मिक सौहार्द की ग़ज़लें और गीत लिखते हैं। उत्तरप्रदेश के यश भारती सम्मान से सम्मानित हैं, उत्तर प्रदेश विधान सभा के मनोनीत सदस्य हैं। डॉ कुमार विश्वास कवि-सम्मेलनऔर मुशायरों के अलावा संवाद के मानक मंचों पर बुलाए जाते हैं। गूगल हेडक्वार्टर और स्टैनफोर्ड से लेकर विश्व के तमाम बड़े विश्वविद्यालयों में हिंदी और भारतीयता के विषयों पर संवाद करते हैं। फ़िल्मों में भी गीत लिखे हैं। टीवी के तमाम बड़े कार्यक्रमों में हिंदी का प्रतिनिधित्व किया है। टेलिविज़न चैनलों पर ‘महाकवि’, ‘केवी सम्मेलन’, ‘वंश’ इत्यादि प्रस्तुत किए हैं।इन्हें युवाओं के बीच हिंदी कविता को दोबारास्थापित करने का श्रेय जाता है। श्री अतुल कनक मूलत: राजस्थानी भाषा केसशक्त रचनाकार और हिंदी के भी ख्याति प्राप्त कवि हैं हिंदी के अलावा हाड़ौती और मारवाड़ी भाषाओं में भी काम किया है। उपन्यास ‘जूण-जातरा’ के लिये साहित्य अकादमी से सम्मानित हैं। ज्योतिष विद्या के बड़े जानकार हैं। सुश्रीअंकिता सिंह कम्प्यूटर इंजीनियर हैं। सम-सामयिक विषयों पर गीत एवं ग़ज़ल लिखती हैं। मंचों पर कम समय में ही दुबई, अमेरिका इत्यादि में हिंदी कविता का प्रतिनिधित्व किया है। श्री रमेश मुस्कान हास्य कवि हैं। दो दशकों से ज़्यादा समय से पैरोडी और हास्य कविताओं के लिए जाने जाते हैं। हास्य कविता को आपने तुक्तक नाम की नई विधा दी है। भारत के अलावा अमेरिका, इंग्लैंड, सिंगापुर, दुबई, ओमान जैसे देशों मेंभीकाव्य-पाठ किया है। श्री वेद प्रकाश 45वर्षों से ज़्यादा समय से कवि-सम्मेलन के मंचों पर हास्य-व्यंग्य का बड़ा नाम है। हास्य और व्यंग्य के लिए विश्व भर में जाने जाते हैं। दुनिया भर में जहाँ-जहाँ हिंदी बोली और समझी जाती है, वहाँ आपके श्रोता मौजूद हैं। टेलीविज़न पर कविता के तमाम कार्यक्रमों में नियमित रूप से आते हैं।

आत्मीय होगा स्वागत समारोह

राजभवन में गणमान्य नागरिकों का स्वागत समारोह शाम 5 बजे होगा कार्यक्रम मेंराज्यपाल श्री टंडन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का सम्मान करेंगे। अतिथियों से आत्मीय मुलाकात करेंगेजिससे अतिथियों के साथ जीवंत आत्मीय सम्पर्क बना रहे।

बच्चों की भव्य बैंड प्रस्तुतियां

राज्यपाल श्री लालजी टंडन प्रतिभाओं को प्रोत्साहनदिये जाने में विश्वास रखते हैं। उनका मानना है कि बच्चों में राष्ट्रभक्ति, सेवा, समर्पणऔर अनुशासन के संस्कार बचपन में ही रोपित किए जाना चाहिए। शौर्य स्मारक पर 16 अगस्त को शाम 5 बजे से लगभग 12 स्कूलों के 800बच्चों के साथ पुलिस बैंड एवं सशस्त्र सेना बल का बैंडअपनीप्रस्तुति देगा। प्रस्तुतियाँ राष्ट्रीय गीतों पर आधारित होंगी। उल्लेखनीय है कि राजभवन में विगत दो माह से प्रत्येक शनिवार को ये बच्चे मध्यप्रदेश पुलिस बैंड से प्रशिक्षण प्राप्त करने आते हैं।

Admin

Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.