आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए वित्तीय समावेशन जरूरी

आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए वित्तीय समावेशन जरूरी

 राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष डॉ. नन्द कुमार साय ने कहा है कि आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए वित्तीय समावेशन जरूरी है, इसके लिए अनुसूचित जनजाति वर्ग को बैंकिंग पद्वति से जोड़ा जाना चाहिए जिससे वे भी मुख्य धारा में शामिल हो सके। डॉ. साय ने सोमवार को जयपुर में भारतीय स्टेट बैंक, जयपुर सर्किल के अधिकारियों एवं एसबीआई अनुसूचित जनजाति कर्मचारी कल्याण एसोसिएशन के पदाधिकारियों की समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की यह मंशा है कि प्रधानमंत्री जन धन योजना, मुद्रा, किसान रूपे कार्ड जैसी कल्याणकारी योजनाओं में अनुसूचित जनजाति वर्ग का पूर्ण प्रतिनिधित्व हो जिससे वे प्रगति के सोपान पर आगे बढ़ सके। उन्होंने जनजाति क्षेत्रों में वित्तीय साक्षरता जैसे अभियान का अधिकाधिक प्रचार प्रसार करने पर जोर दिया साथ ही पिछड़े वर्ग की महिलाओं को आधारभूत बैैकिंग ज्ञान देने की बात कही जिससे महिला सशक्तिकरण को भी बढ़ावा मिले। डॉ. साय ने राजस्थान का मुद्रा योजना के तहत अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए अच्छा कार्य करने को लेकर सराहना भी की। इस अवसर पर भारतीय स्टेट बैंक, जयपुर सर्किल के मुख्य महाप्रबंधक श्री रविन्द्र पाण्डेय ने बताया कि भारतीय स्टेट बैंक, जयपुर सर्किल में लगभग 13 हजार कार्मिक कार्यरत है, जिसमें 13.77 प्रतिशत के साथ 1 हजार 815 अनुसूचित जनजाति वर्ग के कार्मिक शामिल है। उन्होंने बताया कि बैंक में गत दो वर्षाें में अनुसूचित जनजाति कार्मिकों में 0.82 प्रतिशत वृद्वि हुई है। श्री पाण्डेय ने बताया कि एसबीआई द्वारा जनजाति क्षेत्रों में सीएसआर (कार्पोरेट सोशल रिस्पॅान्सिबिलिटी) के तहत वृक्षारोपण, जल संचय, स्कूलों में शौचालय निर्माण, महिलाओं के लिए सेनेटरी नेपकिन मशीन लगवाने जैसे विभिन्न गतिविधियों की जा रही है।
बैठक में भारतीय स्टेट बैंक अनुसूचित जनजाति कल्याण एसोसिएशन, जयपुर सर्किल के अध्यक्ष श्री अशोक मीणा ने आयोग के समक्ष विभिन्न मांगे रखी जिस पर आयोग ने बैठक में बैंक के उच्च अधिकारियों के साथ समीक्षा की। इससे पहले एसबीआई के अधिकारियों तथा एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने आयोग के सदस्यों को पुष्पगुच्छ भेंट कर साफा तथा शॉल पहनाई। इस अवसर पर आयोग के सदस्य श्रीमती माया चिंतामण इवनाते, श्री हर्षदभाई वसावा, श्री हरिकृष्ण डामोर, सचिव श्री ए.के. सिंह, संयुक्त सचिव श्री एस. के. राठो तथा सहायक निदेशक श्री एस. पी. मीणा मौजूद थे। साथ ही बैठक एसबीआई के महाप्रबंधक, जयपुर सर्किल श्री शिव ओम दीक्षित, उपमहाप्रबंधक श्री चंद्रशेखर शर्मा, सहायक महाप्रबंधक श्री राजेश कुुमार मीणा, भारतीय स्टेट बैंक अनुसूचित जनजाति कल्याण एसोसिएशन, जयपुर सर्किल के पदाधिकारी मौजूद थे।
Admin

Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.