गरीब विधवा की सुन लो सरकार, बरसात की मार आखिर कब तक झेले ये लाचार

गरीब विधवा की सुन लो सरकार, बरसात की मार आखिर कब तक झेले ये लाचार

ऊना
यूं तो प्रदेश की सरकार द्वारा हर गरीब को छत मुहैया करवाने के बड़े-बड़े दावे किए जाते रहे हैं। लेकिन जिला ऊना में आज भी कई परिवार ऐसे है जिनके पास सिर ढकने के लिए छत नहीं है बाबजूद इसके आज दिन तक उन्हें केंद्र या प्रदेश सरकारों की आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया। ऐसा ही एक परिवार ऊना जिला के गांव कोटला खुर्द में रह रहा है। जहां एक विधवा (भोली देवी) का कच्चा घर बरसात में पूरी तरह से टूट गया। जिसे ससुराल से सर ढकने के लिए भोली देवी को नसीब हुआ था, वो भी भारी बरसात ने छीन लिया और अब वह 3 बच्चों के साथ किराए के मकान में रहने को मजबूर है।
बता दें कि मनरेगा में दिहाड़ी कर मुश्किल से घर खर्च चलाने वाली भोली देवी के लिए मकान का किराया निकालना ही मुश्किल है तो घर की मुरम्मत या नए घर का तो वो सपना भी नहीं देख सकती। बताया जा रहा है कि 3 वर्ष पहले भोली देवी के पति की मौत हो गई थी। जिसके बाद दो बेटियों और एक बेटे की जिम्मेदारी भी उसपर आ गई। भोली देवी की बड़ी बेटी स्नातक और छोटी बेटी 12वीं के बाद कम्प्यूटर कोर्स कर रही है। जबकि बेटा 12वीं कक्षा में पढ़ाई कर रहा है। ऐसे में भोली देवी केवल मनरेगा में मेहनत मजदूरी करके घर का किराया दे, बच्चों का पालन पोषण करे, घर का किराया दे या फिर टूटे घर की मुरम्मत के बारे में सोचे। स्थानीय पंचायत द्वारा भोली देवी को बीपीएल सूची में शामिल किया गया और सामाजिक सुरक्षा पेंशन भी लगवा दी गई। हालांकि पंचायत द्वारा भोली देवी को आवास योजना के लिए प्रस्ताव बीडीओ ऊना को भेज दिया गया है लेकिन बाबजूद इसके आज दिन तक भोली देवी को केंद्र या प्रदेश सरकार की आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया है। भोली देवी ने सरकार से आवास योजना के तहत भवन निर्माण के लिए आर्थिक सहायता की गुहार लगाई है। वहीं बीडीओ ऊना यशपाल सिंह ने बताया कि भोली देवी को भवन निर्माण योजना का लाभ देने के लिए अभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई है और केंद्र सरकार से स्वीकृति मिलते ही इस परिवार को प्राथमिकता के आधार पर आर्थिक मदद दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Right Click Disabled!