कर्ज से निकलने के लिए दिल्ली की रेजिडेंशल कॉलोनी का सहारा लेगी एयर इंडिया

कर्ज से निकलने के लिए दिल्ली की रेजिडेंशल कॉलोनी का सहारा लेगी एयर इंडिया

एयर इंडिया दिल्ली के वसंत विहार में अपनी रेजिडेंशल कॉलोनी के रीडिवेलपमेंट के जरिए अपना कर्ज 4500 करोड़ रुपए घटाएगी। मामले से वाकिफ दो अधिकारियों ने बताया कि नैशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन (एनबीसीसी) ने 30 एकड़ की जगह के मॉनेटाइजेशन की विस्तृत योजना पेश की है। कंस्ट्रक्शन कॉस्ट घटाने के बाद 4525 करोड़ रुपए का सरप्लस रहने की उम्मीद है। इस प्रॉजेक्ट से कुल 7000 करोड़ रुपए का रेवेन्यू मिलने की संभावना है। योजना के तहत वहां 1700 फ्लैट्स वाली 14 मंजिला बिल्डिंग बनाई जाएगी। इसमें 960 फ्लैट आर्थिक रूप से कमजोर तबके के लिए होंगे। इस एरिया में एक स्कूल और कम्युनिटी फसिलिटी का निर्माण भी किया जाएगा। NBCC के डायरेक्टर (प्रॉजेक्ट्स) नीलेश शाह ने कहा, ‘अभी कॉलोनी में 810 फ्लैट हैं। 42 मीटर ऊंची बिल्डिंग बनाकर हम इतनी अतिरिक्त रकम का इंतजाम कर देंगे, जिससे एयर इंडिया को कर्ज घटाने में मदद मिलेगी। कॉलोनी का डिवेलपमेंट दो चरणों में किया जाएगा ताकि वहां रह रहे लोगों को एक बार में ही रीलोकेट न होना पड़े।’ इंटर-मिनिस्ट्रियल नोट सर्कुलेट किया जा चुका है, जिसमें प्रस्ताव की जानकारी दी गई है। उन्होंने बताया कि अब इसे मंजूरी के लिए कैबिनेट के पास भेजा जाएगा। दो साल पहले नकदी की तंगी से जूझ रही एयर इंडिया ने 111 प्रॉपर्टीज बेचने का कदम उठाया था और इनका कुल प्राइस टैग 9500 करोड़ रुपए रखा गया था। इसमें से वह अब तक केवल 32 को बेच सकी है, जिनसे करीब 1000 करोड़ रुपए उसे मिले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Right Click Disabled!