राफेल, राहुल और सबरीमाला मामलो पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कल

राफेल, राहुल और सबरीमाला मामलो पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कल

अयोध्या पर फैसला सुनाने के बाद अब सुप्रीम कोर्ट एक बार फिर कुछ मामलों में फैसला सुनाने जा रही है। गुरुवार को शीर्ष अदालत में सुप्रीम फैसलों का दिन है। दरअसल कोर्ट कल राफेल सौदे से लेकर सबरीमाला विवाद और राहुल गांधी के मामले पर अपना फैसला सुनाने जा रही है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली बेंच कल सुबह 10.30 बजे फैसला सुनाएगी। बता दें कि 17 नवंबर को CJI गोगोई रिटायर हो रहे हैं और उससे पहले वे बड़े मामलों पर फैसला सुना रहे हैं।
राफेल सौदे पर फैसला
लोकसभा चुनाव के दौरान राफेल विमान सौदे को लेकर काफी विवाद हुआ था और मामला बढ़ गया था। फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमान खरीदने की प्रक्रिया में दो जनहित याचिका दायर की गई थीं, जिसमें भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया था. इसके अलावा लड़ाकू विमान की कीमत, कॉन्ट्रैक्ट, कंपनी की भूमिका पर सवाल खड़ा किया गया था। हालांकि तब कोर्ट ने कहा था कि अदालत इस मामले में दखल नहीं दे सकती है, साथ ही खरीद प्रक्रिया पर कोई सवाल खड़े नहीं किए थे। कोर्ट के इस फैसले के बाद भी पुनर्विचार याचिका दायर की गई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को गुमराह किया है। कोर्ट उन्हीं पुनर्विचार याचिकाओं पर अपना पैसला सुनाएगी। बता दें कि राफेल डील अब आगे बढ़ चुकी है और दशहरे पर भारत को अपना पहला राफेल विमान मिल भी गया है।
सबरीमाला मामला
केरल के सबसे प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की एंट्री का विवाद पिछले काफी समय से चल रहा है। साल 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर अहम फैसला सुनाते हुए 10 से लेकर 50 साल की महिलाओं के मंदिर प्रवेश पर लगी पाबंदी को हटा दिया था। कोर्ट के इस फैसले के बाद काफी विरोध प्रदर्शन भी हुआ था। वहीं इस मामले में भी पुनर्विचार याचिका दायर की गई थी। सबरीमाला में रिव्यू पेटिशन के कुल 64 मामले थे जिस पर कल कोर्ट फैसला सुनाएगी।
राहुल गांधी के मामले पर भी फैसला कल
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ दायर याचिका पर फैसला भी सुप्रीम कोर्ट कल ही सुनाएगी। यह याचिका भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी द्वारा दायर की गई थी, जिसमें आरोप था कि राहुल गांधी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि चौकीदार चोर है। मीनाक्षी लेखी ने आरोप लगाया था कि राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट के बयानों को राजनीति से जोड़ दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Right Click Disabled!