पुरी के एयर इंडिया के बंद होने के बयान से पीक सीजन में ग्राहकों के दूरी बढऩे की आशंका

पुरी के एयर इंडिया के बंद होने के बयान से पीक सीजन में ग्राहकों के दूरी बढऩे की आशंका

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने हाल ही में राज्यसभा में कहा कि अगर इस बार एयर इंडिया के निजीकरण की बोली विफल रहेगी, तो एयरलाइन बंद हो जाएगी। उनके इस बयान के बाद एयरलाइन का मनोबल तो टूटा ही है, वहीं, पीक सीजन में ग्राहकों के एयर इंडिया से दूरी बनाने की आशंका भी बढ़ गई है। एयरलाइन का प्रदर्शन पहले ही हर महीने खराब होता जा रहा है। एयर इंडिया का ऑन टाइम प्रदर्शन से भी कंपनी की तंगहाली देखी जा सकती है। अगस्त के बाद से पिछले तीन महीनों में एयर इंडिया का ओटीपी बेंगलुरू, दिल्ली, हैदराबाद और मुंबई जैसे प्रमुख हवाई अड्डों पर 60 फीसदी से नीचे रहा है। इसकी तुलना में निजी एयरलाइंस एयर एशिया इंडिया, गो-एयर और इंडिगो का ओटीपी 80 फीसदी तक दर्ज किया गया है। एयर इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एयरलाइन में सभी रैंक के कर्मचारी निराश हैं। उन्होंने खराब प्रदर्शन के लिए कम विमान उपलब्धता को भी जिम्मेदार ठहराया। एयर इंडिया के कई कर्मचारियों ने बयान को गैर-जिम्मेदाराना करार देते हुए कहा कि इससे पीक ट्रैवल सीजन में एयरलाइन के ग्राहकों में कमी आएगी। वहीं, इसका भारी वित्तीय प्रभाव भी देखने को मिलेगा। नवंबर के महीने में ऑटो कंपनियों में मंदी जारी, गाडिय़ों की बिक्री में आई गिरावट वायु निगम कर्मचारी संघ (एसीईयू) के महासचिव जेबी कादियान ने कहा कि बयान पूरी तरह से गैर जिम्मेदाराना है। हम इसकी निंदा करते हैं। कर्मचारियों का मनोबल पहले से ही टूट चुका है और इस तरह की हरकतें स्थिति को और भी बदतर कर देती हैं। एयरलाइन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आश्चर्य व्यक्त किया कि अगर एयरलाइन ठीक तरह से काम नहीं कर रही है और यह अपने आप बंद हो जाएगी तो मंत्री किसे धमकी देना चाहते हैं, कर्मचारियों को या निवेशकों को। उन्होंने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो यह काफी हतोत्साहित करने वाला है। बुधवार को राज्यसभा में मंत्री पुरी ने कहा था कि निजीकरण नहीं होने पर एयर इंडिया को बंद करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Right Click Disabled!